Shoping Cart

Your cart is empty now.

9789352291991.jpg
Rs. 795.00
SKU: 9789352291991

ISBN: 9789352291991
Language: Hindi
Publisher: Vani Prakashan
No. of Pages: 480
पांडवों का अज्ञातवास, महाभारत-कथा का एक बहुत आकर्षक स्थल है । दुर्योधन की गृध्र दृष्टि से पांडव कैसे छिपे रह सके ? अपने अज्ञातवास...

  • Book Name: Prachchhann : Mahasamar6 (Deluxe Edition)
  • Author Name: NARENDRA KOHLI
  • Product Type: Book
  • ISBN: 9789352291991
Categories:
ISBN: 9789352291991
Language: Hindi
Publisher: Vani Prakashan
No. of Pages: 480
पांडवों का अज्ञातवास, महाभारत-कथा का एक बहुत आकर्षक स्थल है । दुर्योधन की गृध्र दृष्टि से पांडव कैसे छिपे रह सके ? अपने अज्ञातवास के लिए पांडवों ने विराटनगर को ही क्यों चुना ? पांडवों के शत्रुओं में प्रछन्न मित्र कहाँ थे और मित्रों में प्रच्छन्न शत्रु कहाँ पनप रहे थे ? ऐसे ही अनेक पश्नों को समेटकर आगे बढती है, महासमर के इस छठे खंड प्रच्छन्न की कथा
translation missing: en.general.search.loading