Shoping Cart

Your cart is empty now.

Oh Re Kisan Sale -15%
Rs. 255.00Rs. 299.00
SKU: 9789389915877

ISBN : 9789389915877
Binding : Paperback
Language : Hindi
No. Of Pages : 220
Publisher : Vani Prithvi / Vani Prakashan
MRP : 299

सृष्टि के सारे ग्रह पुल्लिंग हैं किन्तु एकमात्र पृथ्वी ही है जिसे स्त्रीलिंग कहा गया है क्योंकि पृथ्वी...

  • Book Name: Oh Re Kisan
  • Author Name: Ankita Jain
  • Product Type: Book
  • ISBN: ISBN
Categories:
    ISBN : 9789389915877
    Binding : Paperback
    Language : Hindi
    No. Of Pages : 220
    Publisher : Vani Prithvi / Vani Prakashan
    MRP : 299

    सृष्टि के सारे ग्रह पुल्लिंग हैं किन्तु एकमात्र पृथ्वी ही है जिसे स्त्रीलिंग कहा गया है क्योंकि पृथ्वी पर जीवन है, अर्थात् वह स्त्री ही होती है जो हमारे जन्म-जीवन का कारण होती है। सुश्री अंकिता जैन के द्वारा कृषि और कृषक पर लिखना मुझे आनन्द और आशा से भरता है। अंकिता की दृष्टि व्यापक ही नहीं गहरी भी है। उन्होंने ओह रे! किसान में बहुत गहरे उतरकर भूमिपुत्रों की परिस्थिति और मनःस्थिति का बेहद प्रभावशाली दृश्य प्रस्तुत किया है। नौकरी हो या व्यापार, संसार के सभी कर्म हम अपनी सुविधा से, अपने मन के मुताबिक़ कर सकते हैं, किन्तु कृषि एकमात्र कर्म है जिसे हमें मन के नहीं मौसम के अनुसार करना होता है, वह भी बिना रुके और बिना थके। सुश्री अंकिता को मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ, मुझे विश्वास है कि किसानों की कथा और व्यथा को समाज और सरकार के सामने प्रस्तुत करने वाला उनका रचनाश्रम हमारी दृष्टि में ही नहीं हमारे दृष्टिकोण में भी सार्थक, व्यापक, सकारात्मक परिवर्तन का कारण होगा। जय कृषि-जय ऋषि!
    -आशुतोष राना अभिनेता और साहित्यकार

    translation missing: en.general.search.loading