Shoping Cart

Your cart is empty now.

9788181433459.jpg
Rs. 495.00
SKU: 9788181433459

ISBN: 9788181433459
Language: Hindi
Publisher: Vani Prakashan
No. of Pages: 362
प्रस्तुत कृति में ‘प्रस्थान’ प्रवर्तक आचार्य शुक्ल का वैचारिक दुर्ग विशेष रूप से निरूपित हुआ है और प्रयत्न किया गया है कि आत्मवादी ‘परम्परा’...

  • Book Name: Acharya Ramchandra Shukla : Prasthan Aur Parampara
  • Author Name: Rammurti Tripathi
  • Product Type: Book
  • ISBN: 9788181433459
Categories:
ISBN: 9788181433459
Language: Hindi
Publisher: Vani Prakashan
No. of Pages: 362
प्रस्तुत कृति में ‘प्रस्थान’ प्रवर्तक आचार्य शुक्ल का वैचारिक दुर्ग विशेष रूप से निरूपित हुआ है और प्रयत्न किया गया है कि आत्मवादी ‘परम्परा’ से उसका व्यावर्तक वैशिष्ट्य स्पष्ट हो जाय। आचार्य शुक्ल के संस्कार में आत्मवादी मान्यताओं की गन्ध विद्यमान है और उनके अर्जित ज्ञान में विज्ञान की युगोचित मान्यताएँ भी मुखर हैं फलतः यत्र-तत्र उनका अन्तर्विरोध भी उभर आया है। वे एक तरफ भारतीय दर्शन के ‘अव्यक्त’ (सांख्य की त्रिगुणात्मिका प्रकृति) तथा शांकर वेदान्त के सच्चिदानन्द ब्रह्म का भी प्रसंग प्रस्तुत करते हैं और दूसरी ओर धर्म और भक्ति का परलोक और अध्यात्मक से असम्बन्ध भी निरूपित करते हैं। युग धर्म के रूप में मानवता ही उनका ईश्वर है और लोकमंगलपर्यवसायी समाज सेवा उनका धर्म। नेहरू जी ने भी आधुनिक मस्तिष्क की यह पहचान बतायी। उनकी दृष्टि में रागसमाधृत परदुःख कातरता ही मानवता है जिसे इसी शरीर और धरा पर चरितार्थ होना है। काव्य भी इसी चरितार्थता में सहायक साधन है। वह लोकसामान्य भावभूमि पर सर्जक और ग्राहक दोनों को प्रतिष्ठापित करता है। इसी भावभूमि पर रचयिता से एकात्म होकर ग्राहक कर्तव्य में प्रवृत्त होता है। वे काव्य-सामग्री और प्रभाव का कहीं भारतीय-दर्शन और कहीं आधुनिक-विज्ञान के आलोक में नूतन व्याख्यान प्रस्तुत करते हैं। कृति इन्हीं बिन्दुओं को स्पष्ट करती है।
translation missing: en.general.search.loading